चीनी मिल में लगेगा जीरो लिक्विड डिस्चार्ज संयंत्र

दैनिक जागरण – 12 March 2019, लखीमपुर : किसान सहकारी चीनी मिल संपूर्णानगर की डिस्टलरी को प्रदूषण मानकों की अनदेखी के चलते 2017 में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बंद करा दिया था। करीब दो वर्षों से बंद पड़ी डिस्टलरी में अब बायो कंपोस्ट आधारित जीरो लिक्विड डिस्चार्ज संयंत्र की स्थापना की जा रही है। इससे जल्द डिस्टलरी के संचालन की संभावना है। डिस्टलरी संचालन के साथ किसानों को भी लाभ मिलेगा। क्योंकि डिस्टलरी को होने वाले लाभ से किसानों को गन्ने का भुगतान किया जाएगा।

किसान सहकारी चीनी मिल संपूर्णानगर के नवागत प्रधान प्रबंधक आजाद भगत सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं गन्ना मंत्री सुरेश राणा के अथक प्रयासों के बाद चीनी मिल की डिस्टलरी में 24 करोड़ की लागत से बायो कंपोस्ट आधारित जीरो लिक्विड डिस्चार्ज संयंत्र की स्थापना की जा रही है। जिस पर कार्य शुरू हो चुका है। अप्रैल माह के अंत में कार्य पूर्ण हो सकेगा। इससे डिस्टलरी प्लांट में तीन लाख क्विटल शीरे का सदुपयोग होगा। जिससे 65 लाख लीटर एथेनॉल का उत्पाद हो सकेगा। एथेनॉल के उत्पादन से चीनी मिल को 10 करोड़ की अतिरिक्त बचत होगी। इस बचत को गन्ना किसानों का भुगतान करने में उपयोग किया जाएगा। इससे क्षेत्र के गन्ना किसानों को समय से भुगतान मिल सकेगा। इसके अलावा बायो कंपोस्ट आधारित जीरो लिक्विड डिस्चार्ज संयंत्र की स्थापना से लगभग 15 टन बायो कंपोस्ट प्रतिदिन बनाई जाएगी। इस बायो कंपोस्ट का इस्तेमाल किसान खेतों में कर सकेंगे। इससे खेतों की उर्वरक शक्ति बढ़ेगी।